बैंक मैनेजर कैसे बने? How to Become A Bank Manager In Hindi? इसकी योग्यता, सैलरी कितनी होती है?

 आज के इस बेरोजगारी के दौर में बहुत से युवा बैंकिंग के क्षेत्र (banking world) में अपना कैरियर बनाने की सोच रहे है । जो भी उम्मीदवार बैंकिंग के क्षेत्र (banking sector) में जाना चाहते हैं  उनके लिए ये सुनहरा विकल्प हो सकता है क्योंकि बैंकिंग से क्षेत्र में बहुत ही मौका हैं। अगर आप भी बैंक मैनेजर के रूप में अपना करियर सवारने की सोच रहे हैं तो यह एक अच्छा विचार है । इस दौर में बैंक में नौकरी को बहुत बड़े तख्ते या पद के रूप में देखा जा रहा है और साथ ही साथ आपको एक अच्छा वेतन भी मिल रही है और आज के इस समाज में इसे एक बड़े औरुदे या पद के रूप देखा जा रहा है और वही इस पद की काफी मान सम्मान भी दिया जा रहा है । इस क्षेत्र में अच्छा वेतन भी मिलता है और साथ ही समाज भी इसे अच्छी निगाह से देखता है  इसलिए इसलिए प्रत्येक युवा बैंकिंग में आपना कैरियर बनाना चाहता है अगर आप भी उन युवाओ में से एक है जो बैंक मेनेजर बनना चाहता है और आपको भी ये जानना है की कि बैंक मैनेजर क्या होता है, Bank manager कैसे बने? तो आप इस पोस्ट को पूरी अंत तक ध्यान से पढ़े तो चलिए जानते है कि, Bank PO कैसे बने, बैंक मैनेजर कैसे बने? इस पोस्ट को आपने अंत तक पढ़ा तो आपको पूरी जानकारी पता चल जाएगी की बैंक मेनेजर कैसे बने ।

बैंक मैनेजर कैसे बने? इसकी योग्यता, सैलरी कितनी होती है?

इस समय इतनी बेरोजगारी बढ़ गयी है की अगर 1 सरकारी नौकरी निकलती है तो हजारो फॉर्म भरा जाता है तो आपको ये अंदाजा हो गया होगा की बेरोजगारी किस हद तक आपने चरम सीमा पर है । इस ज़माने में सरकारी नौकरी पाना तो भगवान से मिलने के बराबर है लेकिन यही हाल प्राइवेट नौकरी का हो गया है ऐसे में आप कड़ी मेहनत करेंगे तो ही आप बैंक मैनेजर की नौकरी पा सकते है 

कई उम्मीदवार सही मार्गदर्शन और सही जानकारी न होने की वजह से भी कई उम्मीदवार कड़ी मेहनत के बाद भी सफल नही हो पाते है । इसलिए हम उन उम्मीदवारों की सहायता के लिए ये पोस्ट लिक्ख रहे है ताकि उनको सही जानकारी मिल सके बैंक मैनेजर कैसे बने? ।

तो चलिए जानते है की , बैंक मैनेजर क्या है, bank manager कैसे बने, बैंक पीओ कैसे बनें, बैंक मैनेजर बनने के लिए क्या करें, बैंक मैनेजर बनने के लिए योग्यता, परीक्षा, चयन प्रक्रिया, वेतन क्या है इत्यादी ।

बैंक मैनेजर क्या होता है? What is Bank Manager In Hindi

बैंक मैनेजर की बात करे तो इसका मुख्य काम बैंक की देखभाल करना है, इसी लिए बैंक मैनेजर को कार्यवाहक भी कहते है और बैंक मैनेजर को शाखा प्रमुख भी कहा जाता है यानि की बैंक मैनेजर bank का head होता है। जो बैंक में काम करने वाले या कर्मचारी की देखभाल करता है उससे ही बैंक मेनेजर कहा जाता है ।

बैंक मैनेजर कैसे बने? How to Become A Bank Manager In Hindi

आपको पहले ये तय करना होगा कि आपको सरकारी बैंक मैनेजर बनना है या प्राइवेट बैंक मैनेजर। क्योंकि सरकारी और प्राइवेट बैंकों में बैंक मैनेजर की चयन प्रक्रिया अलग-अलग होती है।

यदि आप सरकारी बैंक में बैंक मैनेजर बनाना चाहते हैं, तो आपको कड़ी लगन और मेहनत करना होगा । और एकक बात और प्राइवेट की तुलना में सरकारी बैंक मैनेजर को अधिक वेतन भी मिलता है और ज्यादा सम्मान भी।

Government bank: अगर आप सरकारी बैंक मैनेजर बना चाहता है तो आपको IBPS PO का एग्जाम पास करना होगा । अगर आप इस को पास कर देते है तो आप सभी यदि सरकारी बैंकों में बैंक मैनेजर की पद के लिए सीधे आवेदन कर सकते हैं।

IBPS PO full form

IBPS full form = Institute of Banking Personnel Selection
IBPS full form in Hindi = बैंकिंग कार्मिक चयन संस्थान

Private bank: अगर आपको प्राइवेट बैंक में बैंक मैनेजर बनाना चाहते है तो आपको PO EXAM पास करना ही होगा । इस परीक्षा को पास पर आपका चयन प्रमाणीकरण अधिकारी (probationary officer) के रूप में प्राइवेट बैंक में होता है बाद में आपको सहायक प्रबंधन (Assistant Manager) के post पर प्रोमोट कर दिया जाता है। और इन सबके बाद आप Assistant Manager से bank manager की post लिए आवेदन कर सकते हैं।

PO full form

PO full form in English = Probationary officer
PO full form in Hindi = प्रमाणीकरण अधिकारी

बैंक मैनेजर बनने के लिए योग्यता (Eligibility for Bank Manager In Hindi)

सभी बैंको में बैंक मैनेजर बनने की प्रकिया और उसकी योग्यता अलग-अलग होती है। इसलिए, आपको सबसे पहले यह तय कर लेना होगा कि आप किस बैंक में नौकरी करना चाहते है, उसके बाद आप जिस बैंक में आप नौकरी करना चाहते है उस बैंक में निर्धारित पात्रता मानदंड का पता करे ।

जो उम्मीदवार बैंक में बैंक मैनेजर के रूप में कैरियर बनाना चाहते है उन उम्मीदवारों को वित्तीय संस्थान (financial institution) द्वारा निर्धारित कुछ मापदंड को पूरा करना होगा। बैंक में बैंक मैनेजर बनने के लिए कुछ पात्रता मापदंड नीचे दिये गये है।

  1. बैंक मैनेजर बनने के लिए उम्मीदवार भारत का नागरिक होना चाहिए।
  2. बैंक मैनेजर बनने के लिए उम्मीदवार का इंटरमीडिएट पास होना आवश्यक है।
  3. बैंक की नौकरी के लिए आवेदक की आयु 18 से 30 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
  4. उम्मीदवार को ग्रेजुएट होना अनिवार्य है।
  5. सरकारी बैंक में मैनेजर बनाने के लिए, IBPS की एग्जाम पास करना होता है।
  6. प्राइवेट बैंक में मैनेजर बनने के लिए, PO की  परीक्षा पास करना होता है।
  7. बैंक मैनेजर बनने के लिए उम्मीदवार के पास कंप्यूटर सर्टिफिकेट होना जरुरी है।

यदि आप ये सभी योग्यताएं रखते हैं तो आप बैंक में मैनेजर की नौकरी के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

बैंक मैनेजर बनने के लिए क्या करें? What to Do Become a Bank Manager In Hindi

बैंक में बैंक मैनेजर बनने के लिए आपको 12 वीं पास करना अनिवार्य है। 12 वीं पास करने के बाद  स्नातक डिग्री की भी आवश्यकता होगी आप ग्रेजुएशन विज्ञान, वाणिज्य या कला विषयों से कर सकते है । दोस्तों बैंक में मैनेजर बनाने के लिए आपके पास कंप्यूटर कोर्स होना आवश्यक है क्योकि आजकल सभी नोकारी में कंप्यूटर ज्ञान होना आवश्य

Bank PO Exam 

बैंक में बैंक मैनेजर बनाने की प्रकिया मुख्यत दो परीक्षा में सम्पन होती है।

  • 1.Written exam ( लिखित परीक्षा )
  • 2.Main exam      ( मुख्य परीक्षा  )

लिखित परीक्षा (Writen Exam ) : पहले चरण को हम लिखित परीक्षा के रूप जानते है इसमे उम्मीदवार को इसे चरण से गुजरना ही पड़ता है इस चरण में उम्मीदवार को कुछ प्रश्न पूछे जाते है जैसे  सामान्य ज्ञान, करंट अफेयर्स, सामान्य अंग्रेजी, गणित, तार्किक इत्यादी की। इस लिखित परीक्षा में कुल 100 प्रश्न आते है और उम्मीदवार को इन 100 प्रश्नों को करने के लिए 1 घंटा दिए जाते है ।

बैंक में बैंक मैनेजर बनने के लिए आपको लिखित परीक्षा पास करना होगा तो ही आप मुख्य परीक्षा के लिए बैठ सकते है नही तो आपको मुख्य परीक्षा में बैठने नही दिया जायेगा आपको यह आवश्यक की आप लिखित परीक्षा पास करे अगर आपको बैंक में बैंक मैनेजर बनना है तो ।

मुख्य परीक्षा: जब आप बैंक मैनेजर की लिखित परीक्षा पास कर लेते है तो आपको मुख्य परीक्षा के लिए आमंत्रित किया जाता है जो लिखित परीक्षा के आगे का चरण होता है जिसे मुख्य परीक्षा कहा जाता है अगर मुख्य परिक्स की बात करे ते ये लिखित परीक्षा के मुकाबले ज्यादा कठिन माना जाता है । इस मुख्य परीक्षा में कुछ जनरल नॉलेज, करंट अफेयर्स, जनरल इंग्लिश, मैथ और लॉजिकल के प्रश्नों पूछे जाते है ।

आप सभी उम्मीदवार को बता दें की, बैंक मैनेजर की मुख्य परीक्षा में नकारत्मक मार्किंग भी होती है यानि की अगर कोई उम्मीदवार किसी भी प्रश्न को गलत करता है तो उसके कुल अंक में से गलत प्रश्न के नंबर को काट लिया जाता है यानि की उम्मीदवार को गलत प्रश्न करने से बचना होगा मुख्य परीक्षा के लिए जो बहुत महत्वपूर्ण साबित होगा आपके बैंक मैनेजर बनने में।

Interview: अब बात की जाये अगले चरण की तो यह है interview अब जो उम्मीदवार लिखित परीक्षा और मुख्य परीक्षा पास किया केवल उसी उम्मीदवार को interview देना का मौका दिया जायेगा। लेकिन अब कुछ राज्यों में interview को हटा दिया गया है। अगर अब कोई उम्मीदवार लिखित परीक्षा और मुख्य परीक्षा पास करता है तो उस उम्मीदवार को सीधे ही इंटरव्यू के बजाय training में भेज दी जाती है।

Training: जब कोई उम्मीदवार चयन की सारी प्रक्रिया को पूरा कर लेता है तब उस उम्मीदवार को 1 से 2 साल के अन्दर प्रशिक्षण दिया जाता है। इस प्रशिक्षण में बैंकिंग से संबंधित जानकारी दी जाती है। जब कोई उम्मीदवार इस प्रशिक्षण को पूरा कर लेता है तो आपको पीओ यानी प्रमाणीकरण अधिकारी (probationary officer) के पद पर चुना जाता है  ।

आप सभी उम्मीदवार को बता दें की, आप सभी अभी बैंक मैनेजर नहीं बने है। सबसे पहले उम्मीदवार बैंक में पीओ के पद पर तैनात होते हैं। अगर आपका बैंक में पीओ के पद पर अच्छा काम रहा तो आपको 2 से 3 साल के बाद पदोन्नति करके सहायक प्रबंधक का पद दे दिया जायेगा । और आपका जैसे ही अनुभव हो जयेगा तब आप बैंक मैनेजर पद के लिए आवेदन कर पाएंगे।

बैंक मैनेजर का काम और जिम्मेदारी (Bank Manager Work and Responsibilities In Hindi)

बैंक में बैंक मैनेजर का मुख्य कार्य यह होता है की वह बैंक को मजबूती से बढ़ाये और वह आपने बैंक कर्मियों का नेतृत्व कर और साथ ही साथ उनकी देखभाल भी अच्छे से करे और आपने बैंक के ग्राहकों से अच्छा सम्बन्ध बनाये ताकि ग्राहक ज्यादा से ज्यादा बैंक से जुड़े आदि ।

एक बैंक के बैंक मैनेजर को आपने बैंक के कर्मचारियों को समय समय पर अच्छे से गाइड करना होता है और इन सबके साथ साथ बैंक मैनेजर को अपने बैंक के ग्राहकों से अच्छे और सभ्य ढंग से बातचीत करना चाहिए ताकि ग्राहक ज्यादा से ज्यादा उस बैंक की और आकर्षित हो क्योकि जब बैंक का सबसे बड़ा अधिकारी किसी ग्राहक से अच्छे बात करेगा तो उस ग्राहक को भी लगेगा की यह बैंक मैनेजर जब इतना अच्छा है तो बैंक के अन्य कर्मचारी भी अच्छे होंगे और वह ग्राहक और आपके बैंक की तरफ आकर्षित होगा।

बैंक मैनेजर का वेतन (Bank Manager Salary)

जब शुरुआत में कोई उम्मीदवार, बैंक में पीओ के पद पर कार्यरत होता हैं, तो उस उम्मीदवार को लगभग शुरुआत में 20 से 25 हजार रुपये वेतन मिलता है। और धीरे धीरे बैंक मैनेजर का वेतन बढ़ता रहता है और कुछ साल बाद बैंक में बैंक मैनेजर का वेतन लगभग 80 से 1 लाख तक हो जाता है। हालांकि, बैंक मैनेजर को अलग- अलग राज्य में अलग-अलग वेतन मिलता हैं। अगर बात करे तो सरकारी बैंक में निजी बैंकों की तुलना में अधिक वेतन दिया जाता हैं।

इसके अलावा, बहुत सी सुविधाएं एक बैंक कर्मी को मिलती है जैसे, महंगाई भत्ता, फ्री हाउस इत्यादी ।

निष्कर्ष (Conclusion)

दोस्तों, आप सभी को इस आर्टिकल के मध्यम से पता चल चूका होगा की बैंक में बैंक मेनेजर कैसे बने? । जैसे की, बैंक पीओ कैसे बने, बैंक मैनेजर कैसे बने, बैंक मैनेजर बनने के लिए क्या करें, बैंक मेनेजर बनने के लिए योग्यता, परीक्षा, चयन प्रक्रिया आदि क्या है।

और साथ ही साथ, बैंक पीओ और बैंक मेनेजर की सैलरी की भी जानकारी इस पोस्ट के मध्यम से हमने दिया है। अगर आपके मन में भी अगर अभी भी कोई सवाल है तो आप कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है ।

धन्यवाद

Tags:bank manager ka kaam kya hota hai, bank manager kaise bane, bank manager ki salary, bank manager salary, bank po exam, bank po kaise bane, Eligibility for Bank Manager, how to be bank manager in hindi